हैदराबाद : 10 हजार रुपये की बाढ़ राहत पाने हजारों लगे कतार में

हैदराबाद, 18 नवंबर (युआईटीवी/आईएएनएस)| हैदराबाद और उसके आसपास के इलाकों में उस समय भगदड़ जैसी स्थिति बन गई, जब भारी बारिश और बाढ़ से प्रभावित हजारों लोग तेलंगाना सरकार से 10,000 रुपये की सहायता पाने के लिए आवेदन करने लाइन में लग गए। सहायता के लिए आवेदन करने सुबह से ही नागरिक सेवा केंद्रों (मी सेवा केंद्रों) पर महिलाओं और पुरुषों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया। आवेदकों के बीच झड़प के नजारे भी दिखे। इस भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस और मी सेवा के कर्मियों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। इस दौरान कोविड-19 के सुरक्षा मानदंड हवा में उड़ते नजर आए। ना तो लाइन में लगे सभी मास्क पहने थे और सोशल डिस्टेंसिंग का तो अता-पता भी नहीं था। इन कतारों के सड़कों तक पहुंचने से कई जगहों पर ट्रैफिक जाम हो गया।

शहर के मध्य में खैरताबाद में सड़क परिवहन प्राधिकरण (आरटीए) के कार्यालय परिसर में बने मी सेवा केंद्र में एक महिला ने कहा, “मैं कल पूरे दिन कतार में खड़ी रही लेकिन जब तक मेरी बारी आई अधिकारियों ने आवेदन लेना बंद कर दिया। पता नहीं आज क्या होगा।”

इस बात को लेकर भी आवेदकों में नाराजगी थी कि अधिकारी सुबह 9 बजे तक भी आवेदन लेने नहीं आए थे। ऐसी ही स्थिति अम्बरपेट, चंदा नगर, सनथ नगर, मरदपल्ली, कुकटपल्ली, एलबी नगर, वनस्थलीपुरम और सिकंदराबाद के मी सेवा केंद्रों की थी।

बता दें कि 14-15 अक्टूबर को भारी बारिश और बाढ़ ने शहर और आस-पास के क्षेत्रों में खासा नुकसान किया। इसमें 50 लोग मारे गए और सैकड़ों कॉलोनियां जलमग्न हो गईं थीं। मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने घोषणा की थी कि हर प्रभावित परिवार को 10 हजार रुपये दिए जाएंगे। सरकार ने इसके लिए 550 करोड़ रुपये जारी किए थे।

नगर प्रशासन मंत्री के.टी. रामा राव ने रविवार को घोषणा की थी कि जिन लोगों को सहायता नहीं मिली है वे मी सेवा केंद्रों के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारी आवेदकों के घरों का दौरा करेंगे और फिर पैसा पात्र लोगों के बैंक खातों में जमा किया जाएगा। इसके बाद से ही मी सेवा केंद्रों में भीड़ उमड़ पड़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *